विटामिन ए की कमी का कारण, लक्षण तथा उपचार । VITAMIN – A DEFICIENCY

कई क्रियाओं के संचालन के लिए विटामिन – ए बहुत जरुरी है । इसकी कमी होने पर अंधापन , चमड़ी सूख कर सख्त हो जाती है । खुरचन उतरती रहती है , प्रजनन क्षमता में कमी ( infertility ) तथा नवजात बछड़ों में जन्मजात विकृतियां पैदा हो जाती हैं ।

इसे पढ़ें – पशुओं के गले में सूजन का उपचार । TREATMENT OF PHARINGITIS

विटामिन ए की कमी का कारण क्या है । ETIOLOGY OF VITAMIN – A DEFICIENCY

( 1 ) Primary Vit . – A deficiency

  • हरे चारे की कमी ।

( 2 ) Secondary Vit . – A deficiency

  • आंतों या लीवर की किसी लम्बी बीमारी ।
  • गर्मी के दिनों में पशु को विटामिन – ए की अधिक जरुरत पड़ती है ।
  • अधिक दानायुक्त आहार व सूखा चारा देने से विटामिन – ए की कमी रहती है ।
  • जिन पशुओं में थायरॉइड ग्लेण्ड व लिवर सही काम नहीं करते हैं । केरोटिन से विटामिन – ए में परिवर्तन नहीं हो पाता है और कमी हो जाती है ।
  • कई संक्रामक रोगों के कारण भी इसकी कमी हो जाती है ।
  • कई दिनों तक तरल पैराफीन देने से विटामिन – ए की कमी हो जाती है ।
  • शरीर में विटामिन – ई तथा विटामिन – सी की कमी से ।

विटामिन – ए क्यों जरुरी है ?

  • शरीर की वृद्धि के लिए ।
  • इसकी कमी से भूख कम तथा पशु दुबला रहता है ।
  • आंख की दृष्टी के लिए ( vision ) .
  • हड्डियों की वृद्धि के लिए ।
  • त्वचा को कोमल लेकिन मजबूत बनाने के लिए ।
  • भ्रूण के विकास के लिए ।
  • विटामिन ए की कमी से रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन अधिक होता है ।
  • विटामिन – ए की कमी से युरिनरी केल्क्युलाई बनने की संभावना अधिक रहती है ।
  • विटामिन – ए की कमी से नर व मादा दोनों की प्रजनन क्षमता कम हो जाती है ।
  • पेमेटोजेनेसिस तथा ऊजेनेसिस ( oogenesis ) प्रभावित होता है ।
  • विटामिन ए की कमी से रिटेंशन ऑफ प्लेसेन्टा तथा गर्भपात की संभावना अधिक रहती है ।

विटामिन ए की कमी का कारण क्या है । SYMPTOMS OF VITAMIN – A DEFICIENCY

  • रतौंधी ( night blindness ) , कभी – कभी दिन में भी सही दिखाई नहीं देता है ( daylight blindness ) .
  • ड्राई रफ बॉडीकोट – चमड़ी रुखी तथा कटी फटी सी हो जाती है तथा जगह – जगह से खुरचन उतरती रहती है ।
  • एनिमल की ग्रोथ कम होती है तथा कमजोर हो जाता है ।
  • पेमेटोजेनेसिस प्रभावित होने से सक्रिय शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है ।
  • गाय – भैंसों के गर्भाशय में प्लेसेंटा कमजोर हो जाने ( placental degeneration ) से गर्भपात भी हो सकता है ।
  • आंखों में सफेद झांई सी आना तथा पानी भर जाने से आंखे बाहर की ओर निकल आती है ।
  • आंखों से काफी आंसू गिरते रहते हैं ।
  • नवजात बछड़ों में आई बॉल की पूरी तरह कमी या छोटी रह जाती है । कई बार तीसरी आंख भी बन जाती है । यह गर्भ में विकृति के कारण होता है ।
  • गर्भ में विकास के दौरान अंगों में विक तियां पैदा हो जाती है ।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता ( immunity ) कम हो जाती है ।

Plasma level Plasma Vit . – A Plasma Carotene

Normal 10 mg % 150 mg %

Symptoms 5 mg % 9 mg &

विटामिन ए की कमी का उपचार । TREATMENT OF VITAMIN – A DEFICIENCY

( 1 ) Inj . Vit . – A 200 IU / lb body weight Calf

( 2 ) Orally – Calf 10-15 lac IU

Cow 2-2.5 lac IU

Horse 2-3 lac IU

for control Vit . – A – 1500 IU daily .

इसे पढ़ें – पशुओं के ब्रेन मे सूजन (एनसेफेलाइटिस) का उपचार TREATMENT OF ENCEPHALITIS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *