पशुओं में ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण (यूआरटीआई) का उपचार । TREATMENT OF UPPER RESPIRATORY TRACT INFECTION ( U.R.T.I. )

LARYNGITIS , TRECHITIS AND BRONCHITIS

रेस्पिरेटरी सिस्टम के ऊपरी भाग में इन्फ्लामेशन हो जाना , जिससे खांसी होती है तथा सांस में गर्र – गर्र की आवाज होती है ।

इसे पढ़ें– पालतु पशुओं के युरेथ्रा , ब्लेडर और किडनी में सूजन का कारण एवम् उपचार । TREATMENT OF BOVINE PYELONEPHRITIS

ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण (यूआरटीआई) का कारण क्या है । ETIOLOGY OF UPPER RESPIRATORY TRACT INFECTION ( U.R.T.I. )

Cattle – Infectious Bovine rhinotrachitis , calf diptheria , Actino . bacillosis , T.B.

Horse – Equine viral rhinopneumonia , equine viral enteritis , infectious equine bronchitis , strangles .

Sheep – Corynebacterium pyogenes , strep . , straph .

Dog – Rabies ( paralysis of larynx ) , canine distemper

श्वसन तंत्र संक्रमण (यूआरटीआई) का कारक कौन हैं । Predisposing Factors OF UPPER RESPIRATORY TRACT INFECTION ( U.R.T.I. )

  • धूल , धुआं व अन्य विषैली गैसों का सांस द्वारा फेफड़ों में जाना ।
  • वातावरण की नमी व ठंड के सम्पर्क में रहना ।
  • डॉग – अधिक भौंकना ।
  • कांटा , तार , सुई आदि का रेस्पिरेटरी सिस्टम के ऊपरी भाग में फंस जाना ।

श्वसन तंत्र संक्रमण (यूआरटीआई) का लक्षण क्या है । SYMPTOMS OF UPPER RESPIRATORY TRACT INFECTION ( U.R.T.I. )

  • खांसी आना इसका प्रमुख लक्षण है जो कि सूखी व कम आती है ।
  • ऑस्कलटेशन सांस अंदर खिंचते समय dry rales सुनाई देती है ।
  • सांस अंदर लेने में तकलीफ होती है और सांस की गति गहरी होती है ।
  • एनिमल के सोते समय सांस से wistling or roaring sound सुनाई देती है ।
  • एब्नॉर्मल रेस्पिरेशन की स्पष्ट आवाज ट्रेकिया के ऊपर या फेफड़ों के आधार पर सुनाई देती है ।

श्वसन तंत्र संक्रमण (यूआरटीआई) का उपचार क्या है । TREATMENT OF OF UPPER RESPIRATORY TRACT INFECTION ( U.R.T.I. )

  • पशु को अधिक ठंड , धुएं , धूल आदि के सम्पर्क से बचाएं ।
  • इन्फेक्शन के बाद पशु को बिल्कुल आराम दें ।
  • Antiseptic inhalation – Tr . Benzoin , Turpentine oil ,
  • Antibiotics – Munomycin , Sulphadimidine .
  • Cough electuary and Cough syrup .

इसे पढ़ें – मवेशियों में सर्दी जुकाम (Common Cold Or Catarrh) का होम्योपैथिक दवा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *