ब्रह्मातालुका न भरने का होम्योपैथिक चिकित्सा । Homeopathic Treatment For Open Fontanelles of Children

जन्म के समय बच्चों की खोपड़ी या चाँद का कुछ भाग जो ब्रह्मतालु कहलाता है , अपरिपुष्ट या पिलपिला होता है । साधारणतः छः महीने में यह भर जाता है और खोपड़ी के अन्यान्य स्थानों की तरह वहाँ का स्थान भी कड़ा हो जाता है । यदि इतने समय में ब्रह्मतालु परिपुष्ट न हो तो…