प्रातः जगते ही हथेलियों के दर्शन क्यों करते हैं ?

शास्त्रों में प्रातः काल जगते ही बिस्तर पर सबसे पहले दोनों हाथों की हथेलियों ( करतल ) के दर्शन करने का विधान बताया गया है । दर्शन के दौरान निम्न श्लोक का उच्चारण करना चाहिए – कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती । करमूले तु गोविन्दः प्रभाते करदर्शनम् ॥ अर्थात् हथेलियों के अग्र भाग में भगवती…