बच्चों के गले में जख्म का होम्योपैथिक उपचार । Homeopathic Treatment For Sore Throat

पाकाशय की गड़बड़ी और खान – पान के दोष से मुँह की तरह अनेक बार बच्चों के गलेमें भी जख्म हो जाया करते हैं । इससे बच्चों को दूध पीने में कष्ट होता है । वे बड़ी उत्सुकता के साथ माता का स्तन पीने लगते हैं , परन्तु ज्यों ही दूध को गलेके नीचे उतारने की चेष्टा करते हैं , त्यों ही दूध गले में गलगलाने लगता है या मुँह के बाहर निकल पड़ता है ! प्रायः इस रोगके साथ बच्चों का गला भारी हो जाता है ।

इसे पढ़ें – बच्चों के मुंह में जख्म का कारण तथा उपचार । Homeopathic Treatment For Sore Mouth

बच्चों के गले में जख्म का होम्योपैथिक दवा । Homeopathic medicine for Sore Throat

  • बहुत बेचैनी , निगलनेके समय रोना , दोनों गाल लाल हों तो एकोनाइट 30 या 200 ।
  • अगर समूचा चेहरा लाल हो तो बेलेडोना 30 ,200 या रस टक्स 30 ,200 । रसटक्सका खास लक्षण यह है कि गलेका रंग गहरा लाल हो और बच्चे को पसीना न आता हो , रात के समय बदन गरम और सूखा मालूम होता हो । रसटक्स से काफी लाभ न हो तो ब्रायोनिया देना चाहिये ।
  • बेलेडोना का खास लक्षण यह है कि बच्चे को बहुत पसीना आता हो , गलेका रङ्ग चमकीला लाल हो और आँखों में भी लाली हो । बेलेडोना से काफी लाभ न होने पर मर्क्युरियस देना चाहिये ।

इसे पढ़ें – बच्चों का आँख उठने का होम्योपैथिक उपचार । Homeopathic Treatment For Opthalmia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *