खसरा और चेचक का होम्योपैथिक उपचार।

खसरा ( रोग – निरोधी ) – मॉरबिलिनम 30 की एक खुराक रोजाना दें । खसरा ( रोग – निरोधी ) – पल्सेटिला 30 सुबह और एकोनाइट 30 शाम के समय आठ – दस दिनों तक खाएँ । खसरा और लाल बुखार , जब फोड़े नहीं होते , चेहरा ठंडा और नीला , लेकिन बच्चा…

भस्मक रोग यानी over eating की लिए प्राकृतिक चिकित्सा जानिये ।

भस्मक रोग यानी ओवरईटिंग एक ऐसा रोग होता है , जिसमे रोगी जितना भी खाद्य पदार्थ खा ले परंतु , उसे हर समय भूख ही लगती रहती है । भस्मक रोग के लक्षण : – इस रोग में रोगी को बहुत ही अधिक भूख लगती है , इसी के साथ वह थोड़ी थोड़ी देर बाद…

आंखों की सुरक्षा या आंख पर से चश्मा उतारने के उपाय

अगर आपके द्वारा नीचे दिए गए उपाय नियमित तौर पर किए जाते है , तो आपकी आंख पर से चश्मा उतर सकता है , परंतु इन सब नियम का पालन करना बहुत ही जरूरी होता है , इसके पश्चात ही अपनी आंखों की सुरक्षा कुछ हद तक कर सकते है । लिए सबसे पहले आधा…

आपके बच्चे को पता होनी चाहिए रुपये – पैसे से जुड़ी ये बातें

आज के बच्चों को सब तरह का ज्ञान होता है । स्कूल में उन्हें कई तरह की बातें सिखाई जाती है , लेकिन लेन – देन से जुड़ी बातें उन्हें तब पता चलती है जब वे आम जिंदगी का सामना करते हैं । अतः माता – पिता के लिए जरूरी है कि वह अपने बच्चों…

टखनों की सूजन तथा दर्द का उपचार ।

परिचय-इस रोग में टखनों पर सूजन आ जाती है जिसके कारण अंगूठा दुसरी अंगुलियों पर चढ़ जाता हैं। कारण :-इस रोग के होने का कारण, गलत साइज का जूता पहनना जिसके कारण पैर पर दबाव या घर्षण होता है जिसकी वजह से यह रोग हो जाता है। लक्षण :- इस रोग के होने पर अंगूठे…

हाइड्रोसिल का होम्योपैथिक उपचार । Homeopathy treatment of HYDROCELE

परिचय :-किसी कारण से अंडकोष में पानी जमा हो जाने से अंडकोष की थैली फूल जाती है जिसे हाइड्रोसिल कहते हैं। इस रोग का एक सामान्य लक्षण यह है कि पूर्णिमा व एकादशी के दिनों में यह बढ़ जाता है अर्थात अंडकोष अधिक फुल जाता है और अन्य दिनों में कम रहता है। जब अंडकोष…

नाखूना (अंगुलबेढ़ा) का होमियोपैथिक उपचार उपचार। Homeopathic medicine for whitlow

परिचय- जब यह रोग हो जाता है तो इसके कारण से हाथ की अंगुली या अंगूठे के नख के पास का भाग पक जाता है और अधिक परेशानी होती है। जब यह स्थान पकने लगता है तब रोगी को बहुत अधिक कष्ट होता है। धीरे-धीरे पकते-पकते यह फूट जाता है और अगर नहीं फूटता है…

सैकरम आफीसिनैलि-सुक्रोज (इक्षु-शर्करा) होम्योपैथिक दवा का उपयोग । Saccharum Officinale-Sucrose (Cane-Sugar)

परिचय- एक विद्वान व्यक्ति के अनुसार स्त्रियों और बच्चों को होने वाले ज्यादातर रोग चीनी के सेवन से पैदा होते हैं। सैकरम आफीसिनैलि-सुक्रोज औषधि शरीर में जहर को समाप्त करती है, रोगों को बढ़ने से रोकती है। फाइब्रिन पर इस औषधि की विलायक क्रिया होती है तथा ये तेज परासरणी बदलावों द्वारा स्रावों को उत्तेजित…

एब्रोमा आगस्टा (उलट कम्बल) होम्योपैथिक दवा का उपयोग । (ABROMA AUGUSTA) (Olat Kambal)

परिचय-एब्रोमा आगस्टा औषधि अनिद्रा रोग, नासूर, मधुमेह, मूत्र रोग, कमजोरी, मानसिक कमजोरी तथा अन्नसारमेह (एल्बुमीनिरिया) रोगों को ठीक करने में बहुत उपयोगी है।एब्रोमा आगस्टा औषधि निम्नलिखित लक्षणों के रोगियों के रोग को ठीक करने में उपयोगी हैं-भूख से सम्बन्धित लक्षण :- अस्वाभाविक भूख (किसी ऐसे समय पर भूख लगना जिस समय पर भूख नहीं लगना…

मां दुर्गा के पावन बीज मंत्र Maa Durga Beej Mantra

नवरात्रि पर्व के पावन दिनों में विधि-विधान से इन सिद्ध मंत्रों के जाप करना चाहिए। यह मंत्र आपके सारे कष्टों को दूर करके जीवन में सुख एवं शांति प्रदान करते हैं : – शैलपुत्री : ह्रीं शिवायै नम:। ब्रह्मचारिणी :  ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:। चन्द्रघण्टा :  ऐं श्रीं शक्तयै नम:। कूष्मांडा : ऐं ह्री देव्यै…