भस्मक रोग यानी over eating की लिए प्राकृतिक चिकित्सा जानिये ।

भस्मक रोग यानी ओवरईटिंग एक ऐसा रोग होता है , जिसमे रोगी जितना भी खाद्य पदार्थ खा ले परंतु , उसे हर समय भूख ही लगती रहती है ।

भस्मक रोग के लक्षण : –

इस रोग में रोगी को बहुत ही अधिक भूख लगती है , इसी के साथ वह थोड़ी थोड़ी देर बाद कुछ ना कुछ खाने के लिए मांगता रहता है ।

भस्मक रोग का प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार :–

  • इस रोग का उपचार करने के लिए सबसे पहले रोगी व्यक्ति को एनिमा प्रक्रिया के द्वारा अपने पेट को साफ करना चाहिए , और इसके बाद दिन में दो बार कटी स्नान भी करना आवश्यक है ।
  • रात को सोते समय रोगी को अपनी कमर पर भीगी पट्टी लगानी चाहिए , यह प्रक्रिया कुछ दिनों तक लगातार करनी चाहिए इसके द्वारा भस्मक रोग ठीक हो जाता है ।
  • कुछ दिनों तक रस आहार और फलाहार भोजन करना चाहिए इसके पश्चात धीरे – धीरे सामान्य भोजन करना चाहिए ।
  • भस्मक रोग को ठीक करने के लिए आसमानी रंग की बोतल के सूर्य तप्त जल को लगभग 50 मिलीलीटर की मात्रा में प्रतिदिन 8 बार कम से कम सेवन करना चाहिए यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है ।

पेट के रोग – पेट दर्द , अम्लपित्त का कारण तथा आयुर्वेदिक, घरेलु उपचार ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.