ब्रह्मातालुका न भरने का होम्योपैथिक चिकित्सा । Homeopathic Treatment For Open Fontanelles of Children

जन्म के समय बच्चों की खोपड़ी या चाँद का कुछ भाग जो ब्रह्मतालु कहलाता है , अपरिपुष्ट या पिलपिला होता है । साधारणतः छः महीने में यह भर जाता है और खोपड़ी के अन्यान्य स्थानों की तरह वहाँ का स्थान भी कड़ा हो जाता है । यदि इतने समय में ब्रह्मतालु परिपुष्ट न हो तो उसका इलाज करना चाहिये ।

बच्चों के ब्रह्मातालुका न भरने का होम्योपैथिक उपचार ।

  • सल्फर 30 या 200 ( 2 बुंद 3 बार ) – यह इस रोग की बढ़िया दवा है । छः महीने में ब्रह्मतलु परिपुष्ट न होने पर बीच बीच में इसे देना चाहिये ।
  • कल्केरिया कार्ब 30 या 200 ( 2 बुंद 3 बार ) – सल्फर से लाभ न होने पर इसे देना चाहिये ।

आवश्यक सुचना –

ब्रह्मतालु को हमेशा सरसों के तेल से तर रखने पर यह शीघ्र परिपुष्ट हो जाता है । इसमें कोई असुविधा हो तो उतने स्थान में सरसों के तेलकी पट्टी चढ़ा रखनी चाहिये ।

इसे पढ़ें – बच्चों को कब्जियत की होम्योपैथिक उपचार। ( Constipation of Infants )

Leave a Reply

Your email address will not be published.