बच्चों की हिचकि आने का होम्योपैथिक उपचार । Homeopathic Treatment For Kids Hiccough

अधिक आहार , दुष्पाच्य चीजें खाना , उत्तेजक पदार्थ खाना आदि कारणों से और कभी कभी दूसरे रोगके साथ यह शिकायत पैदा होती है । अनेक बार बच्चों को इससे बहुत तकलीफ होती है ।

बच्चों की हिचकियों का होम्योपैथिक दवा । Homeopathic medicine for child Hiccough

  • नक्सवोमिका 30 या 200 ( 2 बुंद दिन में 3 बार ) – अधिक आहार या घी और मसाले की चीजें खाने के कारण हिचकी , कब्जियत , बारंबार पेट में दर्द , खायी हुई चीजों की कै हो जाना इत्यादि ।
  • बेलेडोना 30 या 200 ( 2 बुंद दिन में 3 बार ) – चेहरा और आँखें लाल , हिचकी के समय रोना , बहुत काँपना इत्यादि ।
  • साइक्यूटा ६ या 30 ( 4 बुंद दिन में 3 बार ) – जोरोंकी आवाज के साथ हिचकी आनेकी यह बढ़िया दवा है ।
  • हायोसायमस ६ या ३० ( 2 बुंद दिन में 3 बार ) – बारम्बार हिचकी , पेटमें गड़गड़ा हट , अंग – प्रत्यंगका फड़कना इत्यादि ।
  • इग्नेशिया 200 या ३० ( 2 बुंद दिन में 3 बार ) – भय , शोक , दु : ख , आनन्द आदि मान सिक आवेगोंके कारण हिचकी , खाने पीने के बाद हिचकी , बारम्बार लम्बी साँस लेना ।
  • पलसाटीला 30 या 200 ( 2 बुंद दिन में 3 से 4 बार ) – शामको या रातके समय हिचकोका बढ़ना ।

आवश्यक सूचना –

रोग आराम न होनेतक घण्टे में २-३ बार दवा देनी चाहिये । हिचकी शुरू होने पर बच्चे को दूध पिलाने से अनेक बार हिचकी बन्द हो जाती है ।

और पढ़ें – बच्चों के दाँत निकलने का होम्योपैथिक उपचार Homeopathic treatment of

Leave a Reply

Your email address will not be published.