भारतीय मान्यता के अनुसार हाथ मिलाना क्यों उचित नहीं है ।

भारतीय मान्यता के अनुसार हाथ मिलाना उचित हैं या नहीं ?

भारतीय मान्यता के अनुसार हाथ मिलाने से अपने शरीर की संचित शक्ति दूसरे में प्रवेश कर जाती हैं । इस तरह शरीर में क्षीणता आती हैं । प्राचीन काल से ही गुरुजन अपने शिष्यों के सिर पर हाथ रखकर ‘ शक्तिपात ‘ करते हैं अर्थात् बिना बताये उसे शक्ति प्रदान करते हैं ।

वैज्ञानिक कारण- पश्चिमी सभ्यता का अनुकरण करने से यहाँ हाथ मिलाने का प्रचलन हुआ । यह उचित नहीं है क्योंकि हाथों में अनेक प्रकार की संक्रामक बीमारियों को वायरस चिपके रहते हैं जिनका हाथ मिलाने से आदान – प्रदान हो जाता हैं । इस तरह विज्ञान के अनुसार हाथ मिलाना उचित नहीं हैं ।

और पढें – अभिवादन (Greeting) कैसे करें । गुड़मार्निंग , गुडनून , गुड ईवनिंग कहना उचित है या नहीं।

नमस्ते कहना उचित हैं या नहीं ?

नमस्ते शब्द की रचना संस्कृत भाषा के ‘ नमः ‘ और ‘ ते ‘ शब्दों के मिलान से हुई । नमः का अर्थ होता हैं ‘ झुकना ‘ और ‘ ते ‘ का अर्थ है ‘ तुम्हारे लिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *