मिरगी या अपस्मार का घरेलू उपचार । Home Treatment of Epilepsy

मिरगी का कारण क्या है ?

शारीरिक तथा मानसिक रूप से कमजोर व्यक्तियों को मिरगी अधि कांश रूप से आती है । अत्यधिक शराब पीना , अधिक शारीरिक श्रम , सिर में चोट लगने से यह बीमारी हो सकती है । इस रोग में अचानक से दौरा पडता है और रोगी गिर पडता है । हाथ और गर्दन अकड़ जाती है , पलकें एक जगह रूक जाती हैं , रोगी हाथ पैर पटकता है , जीभ अकड़ जाने से बोली नहीं निकलती , मुँह से पीला झाग निकलता है । दात किटकिटाना और शरीर में कपंकपी होना सामान्य रूप से देखा जाता है । चारों तरफ या तो काला अंधेरा दिखाई देता है या सब चीजें सफेद दिखाई देती हैं । इस तरह के दौरे 10-15 मिनट से लेकर 1-2 घण्टे तक के भी हो सकते हैं । पुनः रोगी को जब होश आता है तब थका हुआ होता है और सो जाता है ।मिरगी ठीक करने का मंत्र

मिर्गी का लक्षण : –

चक्कर से गिरकर बेहोश हो जाना और मुंह से झाग आना , शरीर अकड़ना ।

मिरगी का घरेलू उपचार :-

  1. दौरा पड़ने पर रोगी को दांयी करवट लिटायें ताकि उसके मुँह से सभी झाग आसानी से निकल जायें । दौरा पड़ने के समय रोगी को कुछ भी न खिलायें बल्कि दौरे के समय अमोनिया या चुने की गंध सुंघानी चाहिये इससे उसकी बेहोशी दूर हो सकती है ।
  2. ब्राह्मी बुटी का रस 1 चम्मच प्रतिदिन सुबह – शाम पिलाने से आधा रहने पर हल्का सा सेंधा नमक मिलाकर दिन में 2 बार पिलायें ।
  3. 20 ग्राम शंखपुष्पी का रस और 2 ग्राम कुटका चूर्ण शहद के साथ मिलाकर चाटें ।
  4. नीम की कोमल पत्तियां , अजवायन और काला नमक इन सबको पानी में पीसकर पेस्ट बनाकर सेवन करें ।
  5. शरीफा के पत्तों के रस की कुछ बूंदे रोगी के नाक में डालने से जल्दी होश आता है ।
  6. नींबू के रस में हींग मिलाकर चटाने से काफी लाभ होता है ।
  7. आक की जड़ का पाउडर बकरी के दूध में घोलकर रोगी को सुंघायें ।
  8. तुलसी के 4-5 पत्ते कुचलकर उसमें कपूर मिलाकर रोगी को सुंघाये ।
  9. प्याज का रस पानी में घोलकर पिलाने से भी काफी आराम मिलता है ।
  10. मेहंदी के पत्तों का रस दूध में मिलाकर पिलाने से काफी लाभ होता है ।
  11. पौदीने के ताजा पत्ते सूघने से मूर्छा दूर होती है ।

मिरगी का आयुर्वेदिक उपचार :-

  • गोरखमुडी को नींबू के रस के साथ लेने से मृगी मिटती है।
  • अकरकरा 100 ग्राम , पुराना सिरका 100 ग्राम और शहद । पहले अकरकरा को सिरके में खूब घोटेंबाद में शहद मिला दें । 5 ग्राम दवा प्रतिदिन प्रातःकाल चटायें । मिरगी का रोग बाद में दूर होगा ।
  • बच का चूर्ण एक ग्राम प्रतिदिन शहद के साथ चटायें ऊपर से दूध पिलायें । बहुत पुरानी और घोर मिरगी भी दूर हो जाती है ।
  • ढाक की जड़ को वेग के समय नाक में टपकाने से मृगी दूर होती है ।
  • कायफल . नक छींकनी और कटेरी के सूखे फल छः २ मांसा और ४ तोला तम्बाकू को महीन पीस कर दो मासा नित्य सूघने से अपस्मार ( मृगी ) मिटती है ।
  • बच के चूर्ण को शहद के साथ चाटने से पुरानी मृगी मिटती है
  • पीपल को पानी में घिस कर अंजन करने से मूळ मिटती है ।
  • जिस बच्चे को मृगी का दौरा हो उसकी दोनों भौंवों के बीच में वकरी की मींगनी जला कर या मूग गरम करके दाग दे । ऐसा करने से फिर कभी मृगी नहीं आयेगी । गधे के दांये पैर की नाखून की अंगूठी पहनाना मृगी के रोगी को सैंकड़ों औषधियों से बढ़कर है ।
  • आक का दूध ४० दिन तक तलवों से मले और उस पर काली मिरच बारीक पीस कर छिड़के और आक का पत्ता ऊपर से वांचे । इस अवधि में पांव विल्कुल न धोवे , तो फिर दौरा न होगा ।
  • सिरस के बीज खूब बारीक पीसो और रोगी को सूंघाओ फौरन छींक आयेगी और आराम होगा ।
  • घी से चतुर्थांश मुलैठी का कल्क तथा १८ गुणा कुम्हड़े का रस मिला कर सिद्ध किया गया घृत मृगी को नाश करता है ।लकवा / पक्षाघात का कारण, आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार । Home treatment of Paralysis

Leave a Reply

Your email address will not be published.