बछड़ों का उजला – पीला दस्त का कारण , लक्षण एवं उपचार । TREATMENT OF WHITE SCOUR

Synonyms – Calf scour , White diarrhoea , Colibacillosis

नवजात पशुओं में पाया जाने वाला यह एक प्रमुख रोग है जो Ecoli नामक बैक्टीरिया के कारण होता है । इसमें पशु कमजोर हो निढाल सा बैठ जाता है तथा तेज पतले , उजले – पीले दस्त व सेप्टिसीमिया होता है । जिससे अधिकतर बछड़ों की मौत हो जाती है । यह गाय , भैंस , घोड़ी व सुअर के नवजात पशुओं में अधिक पाया जाता है । प्रायः 1 से 15 दिन की उम्र के बछड़ों में अधिक होता है । लेकिन गाय के बछड़ों में यह जन्म के बाद कुछ सप्ताह में हो सकता है ।

और पढ़ें – पशुओं को होने वाले दस्त ( DIARRHOEA ) का होम्योपैथीक दवा

बछड़ों का उजला – पीला दस्त का कारण क्या है । ETIOLOGY OF CALF SCOUR

ETIOLOGY – Bacteria – Eschericia coli ( E. coli )

  • ये बैक्टीरिया वातावरण में हर जगह पाये जाते हैं जो सेप्टिसीमिया व दस्त के लिए जिम्मेवार होते हैं ।
  • नवजात पशु को जन्म के बाद 24 घंटों में कोलोस्ट्रम नहीं मिलना , विटामिन – ए की कमी , शारीरिक कमजोरी , गंदगी के साथ रखरखाव , खुराक में लापरवाही , तेज ठंड , भीड़ जैसे कारणों से भी white scour होता है । प्रायः 1 से 15 दिन की उम्र वाले नवजात पशु इससे ग्रसित होते हैं ।

बछड़ों का उजला – पीला दस्त रोग का जनन कैसे होता है। PATHOGENESIS OF CALF SCOUR

रोगी पशु के गोबर से दूषित आहार व पानी के स्वस्थ पशु द्वारा उपयोग से यह रोग फैलता है । इसके अलावा गर्भपात हुए भ्रूण , वेजाइनल डिस्चार्ज , नेवल इन्फेक्शन से भी नवजात पशु में इन्फेक्शन हो सकता है । E – coli बैक्टीरिया आहारनाल में पहुंचकर लीन प्रकार के टॉक्सिन पैदा करते हैं :-

1st toxin – It cause hypotension and enteric calf scour .

2nd toxin – It damages muscular endothelium leading to transudation causing septicaemic calf scour .

3rd toxin – It damages GIT form enteric type of calf scour .

इसे देखें – पशुओं को निगलने ने कठिनाई यानी इसोफेजाइटिस ( OESOPHAGITIS ) के कारण लक्षण तथा उपचार

बछड़ों का उजला – पीला दस्त का लक्षण क्या है । SYMPTOMS OF CALF SCOUR

बछड़ों में ( CALVES ) – लक्षणों के आधार पर तीन प्रकार का Calf scour होता है ।

  1. Enteric toxaemic calf scour .
  2. Septicaemic calf scour .
  3. Enteric calf scour .

1. Enteric toxaemic calf scour

  • निढाल सा कॉमा अवस्था में , ठंडा शरीर , heart rate , temp .
  • सफेद – पीली म्युकस मेम्ब्रेन , जुगलर वेन दबी हुई ।
  • Diarrhoea and scouring , 2-6 घंटे में बछड़े की मौत ।

2. Septicaemic calf scour

  • प्रायः जन्म के बाद चार दिनों में ऐसे लक्षण अधिक
  • दूध पीना बिल्कुल बंद , काफी सुस्त , Theart rate कम, temp कभी बढ़ा कभी कम ।
  • Sequelae – Arthritis , lameness , pain and swelling in joints .
  • कंपकंपाहट ( convulsion ) , आंख का घूम जाना ( nystagmus ) .

3. Enteric calf scour

  • यह दस्त बछड़ों में अधिक होता है जो जन्म के पहले तीन सप्ताह में होता है ।
  • पतले चिकने ( pasty ) तथा सफेद – पीले रंग के दस्त ।
  • बार – बार दस्त से बछड़े की पूंछ व पिछले पैर गोबर से सने रहते हैं ।
  • टेम्प्रेचर ( 105-106 ° F ) बढ़ा, पल्स रेट बढ़ा हुआ।
  • बछड़ा वर्तन में रखा दूध या गाय का दूध नहीं पीता है – डिहाइड्रेशन ।
  • बार – बार दस्त से पेट दर्द , कमर मुड़ जाती है ( arched back )
  • यदि समय पर इलाज न हो तो 3-5 दिन में बछड़े की मौत ।

बछड़ों का उजला – पीला दस्त का डायग्नोसिस कैसे करें । DIAGNOSIS OF CALF SCOUR

  • लक्षण व गोबर की जांच के आधार पर ।
  • Differential diagnosis – दस्त कई रोगों का लक्षण है ।

– थैलेरियोसिस – ब्लड के थक्के मिला हुआ पीला गोबर , लिम्फ नोड्स में ।

– कॉक्सिडियोसिस – यह अधिक उम्र ( 4 माह से 2 वर्ष ) के बछड़ों में होता है ।

– बछड़ों का दस्त यह जन्म के बाद कुछ ही दिन ( 5 से 20 दिन ) के अंदर ।

इसे भी देखें – पशुओं में चोक (CHOKE) के कारण, लक्षण एवं उपचार

बछड़ों का उजला – पीला दस्त का उपचार क्या है । TREATMENT OF CALF SCOUR

  • बछड़े को एक दिन तक किसी भी तरह का दूसरा आहार नहीं दें । यदि वह मां का दूध थनों से पीएं तो पीने दें ।
  • Antibiotics – E.coli बैक्टीरिया काफी रेजिस्टेन्ट होते हैं इसलिए गोबर की जांच कराने के बाद ही उचित एंटीबायोटिक देवें ।

– Streptomycin – 20 mg / kg b . wt . I / M , I/V या Oral

– Chloramphenicol – 25 mg / kg b.wt. daily for 5-6 days .

– Tetracycline – 25-50 mg / kg b.wt. I / M , I/ V, Oral , daily for 5-6 days .

– Nitrofurazone , Furazolidone – 2 mg daily into two divided doses for 3-5 days .

  • Supportive treatment – Fluid therapy – ( Ringer’s lactate ) . Dose – 25 ml./kg b.wt.
  • Intestinal astringent .

बछड़ों का उजला – पीला दस्त का रोक थाम क्या है । CONTROL OF CALF SCOUR

  • गाय , भैंस के ब्याने के स्थान पर पूरी सफाई रखें ।
  • अधिक संख्या में बछड़ों को एक साथ भीड़ में न रखें ।
  • चूंकि नवजात बछड़ों द्वारा कोलोस्ट्रम पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता ( immunity ) बढ़ जाती है इसलिए ध्यान रखें कि लगभग 50 ml / kg b.wt. के हिसाब से जन्म के बाद बछड़ा पांच दिन तक कोलोस्ट्रम जरुर पीएं ।
  • रोगी बछड़े के गोबर से आसपास का चारा – पानी दूषित होने से बचाएं ।
  • गाय , भैंस के ब्याने के लगभग 15 दिन पहले विटामिन ए का इंजेक्शन लगवाएं ।
  • ब्याने से पहले व बाद में पौष्टिक खुराक दें ।
  • जन्म के बाद पहले दिन से ही तीन दिन तक बिना कोई रोग के टेट्रासाइक्लिन एंटीबायोटिक दी जा सकती है ।

इसे पढ़ें – बछड़ों का न्युमोनिया का कारण एवं उपचार । SYMPTOMS & TREATMENT OF CALF PNEUMONIA

3 Replies to “बछड़ों का उजला – पीला दस्त का कारण , लक्षण एवं उपचार । TREATMENT OF WHITE SCOUR”

  1. Howdy this is kind of of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. I’m starting a blog soon but have no coding know-how so I wanted to get advice from someone with experience. Any help would be enormously appreciated!

  2. Thanks for ones marvelous posting! I really enjoyed reading it, you can be a great author.I will remember to bookmark your blog and may come back in the future. I want to encourage you to ultimately continue your great work, have a nice morning!

  3. I must thank you for the efforts you’ve put in penning this site. I really hope to see the same high-grade blog posts by you in the future as well. In fact, your creative writing abilities has encouraged me to get my own website now 😉

Leave a Reply

Your email address will not be published.