गाय, भैंस के थानों से दूध नहीं आना ( AGALACTIA ) का होम्योपैथिक दवा

गाय, भैंस दूध क्यों नहीं देती है और उसका कारण क्या है ।

कई बार पशु के ब्याने के ब्याने के बाद या तो दूध बनता ही नहीं है या कम बनता है । कभी एक या दो तो कभी सारे थन प्रभावित हो सकते हैं । दूध नहीं बनता या कम बनने के लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं ।

गाय, भैंस के थानों से दूध नहीं आना ( AGALACTIA ) का होम्योपैथिक दवा क्या है ।

  • अल्फा अल्फा ( Alfalfa ) यदि पशु को पौष्टिक आहार की कमी हो तो अल्फा अल्फा पौष्टिक दवा दिन में दो बार 15 दिन तक दें ।
  • अर्टिका यूरेन्स ( Urtica urens ) यदि ब्याने के बाद बछड़े की मृत्यु हो गई हो तो दिन में दो बार दें ।
  • कैल्केरिया फॉस ( Calc . phos . ) इससे केल्शियम की पूर्ति होती है तथा दूध की मात्रा भी बढ़ती है दिन में दो बार आवश्यकतानुसार दिनों तक दें ।
  • साइलिसिया ( Silicea ) थन व अडर में कोई रोग नहीं हो , दोनों सामान्य आकार में हो लेकिन यदि पशु के बछड़े की मौत या अन्य मानसिक स्थिति के कारण गाय – भैंस दूध नहीं देती हो तो साइलिसिया दिन में दो बार 15 दिन तक दें ।
  • लेसिथीन ( Lecithin ) केल्केरिया फॉस की तरह यह भी दूध बढ़ाने की अच्छी दवा है । इसे दिन में दो बार आवश्यकतानुसार दिनों तक दें ।
  • इन दवाओं को अलग अलग देने के अलावा यदि रिसिनस कॉम + अर्टिका युरेन्स + केल्केरिया फॉस + फेरम फॉस + नैट्रम फॉस + मैग फॉस + काली फॉस ( यानी पांचों फास्फोरस ) के मिश्रण को देखें तो दूध नहीं बनने की स्थिति में दूध बनना शुरू हो जाता है और कम आने की स्थिति में बढ़ता है ।
  • कुछ परिस्थितियों में अडर से दूध बनना बंद भी करना पड़ता है ऐसे में नेट्रम सल्फ या कैल्केरिया फ्लोर + नैट्रम म्यूर + नैट्रम फ्लोर का मिश्रण दें ।

निगलने में कठिनाई ( OESOPHAGITIS ) के लक्षण तथा इलाज

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजें (immunity booster things)

1 Reply to “गाय, भैंस के थानों से दूध नहीं आना ( AGALACTIA ) का होम्योपैथिक दवा”

Leave a Reply

Your email address will not be published.