मोतिया बिंद ( Cataract ) के टॉप 10 होम्योपैथिक दवा । TOP 10 HOMEOPATHIC MEDICINE FOR CATARACT IN HINDI

मोतिया बिंद ( Cataract ) किसे कहते हैं ?

आंख की पुतली के पीछे जो लैंस होता है वह प्रायः धुंधला पड़ने लगता है और धीरे धीरे दिखना बंद हो जाता है । आखिर में इसका ऑपरेशन कराना पड़ता | अगर शुरू में ही इसके लिए होम्योपैथिक दवा ली जाए तो प्रायः ऑपरेशन की जरूरत नहीं पड़ती । यहाँ पर हम कुछ ख़ास दवाओं के बारे में दे रहे हैं

मोतियाबिंद के कारण , लक्षण तथा मोतियाबिंद के घरेलू उपचार । Top 6 Home remedies for Cataract in hindi

मोतिया बिंद ( Cataract ) का होम्योपैथीक उपचार :-

  1. चर्म रोग दब जाने से अगर मोतिया बिंद हुआ हो । :- सल्फर २०० या IM , महीने में एक बार
  2. धुंधला दिखना , आंखों के ऊपर हाथ की छाया करने से अच्छी तरह दिखाई देना । रोशनी के चारों तरफ हरा – हरा चक्कर दिखाई देना । :- फॉस्फोरस २०० , सप्ताह में एक बार आवश्यकतानुसार दें
  3. ऐसा लगे जैसे कि आंख में रेत पड़ी हुई है , आंख को दबाने पर दर्द महसूस हो । :- कॉस्टिकम ३० , दिन में २ बार
  4. जब चोट लगने से मोतिया बिंद हुआ हो । :- कोनियम २०० , आवश्यकतानुसार
  5. जब बुढ़ापे में मोतिया बिन्द हो । :- कार्बो एनि . २०० , आवश्यकतानुसार
  6. जब मोतिया बिंद के साथ – साथ आंखों से अत्यधिक पानी आए । :- यूफ्रेशिया ३० , दिन में दो बार
  7. जब मोतिया बिन्द के साथ – साथ रोगी को गठिया भी हो । :- लिडम पैल ३० , दिन में ३ बार
  8. पैरों का पसीने दबने के फलस्वरूप रोग हो । :- साइलिशिया २०० या 1M , आवश्यकतानुसार
  9. बायोकैमिक औषधि : कैल्केरिया फ्लोर 12X

मोतिया बिंद ( Cataract ) के लिये eye drope तथा सामान्य देख रेख क्या है ?

सामान्य देख रेखः प्रति दिन प्रातः काल ठण्डे पानी से आंखों को धोना चाहिए । आंख में डालने की दवा सिनेरेरिया मैरीटिमा सक्कस दिन में 2-3 बार 2-2 बूंद आंखों में बराबर डालते रहना चाहिए । मर्ज़ की शुरुआत से ही अगर व्यक्तिपरक दवा के साथ – साथ यदि यह दवा भी इस्तेमाल की जाए तो धुंधलापन ठीक हो सकता है । आराम न आने पर नेत्र विशेषज्ञ को दिखाएं ।

दिनौंधी ( Day Blindness ) तथा रतौंधी ( Night Blindness ) के लक्षण एवं होम्योपैथक दवाएं

गुहेरी या अंजनहारी ( Stye ) का होम्योपैथक दवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.