कहीं भी हो मस्सा (Mole) होम्योपैथिक करे जड़ से खत्म

  • विभिन्न प्रकार के मस्सों की मुख्य दवा । – थूजा २०० या IM ( थूजा Q मस्सों पर लगा सकते हैं )
  • सींग जैसे नोकदार चुभने वाले मस्से । रोगी ठंडी प्रकृति का हो । – कैल्कोरिया कार्ब ३० या २००
  • छोटे – छोटे बहुत सारे मस्से , जिनकी जड़ मुलायम और ऊपर से कठोर हों । – कॉस्टिकम ३० या २००
  • टेढ़े – मेढ़े , खुरदुरे , बड़े- बड़े मस्से । ऊपर के होंठ पर मस्से । – नाइट्रिक एसिड ३० या २००
  • मस्से छूने से दुखें व ज़ख्म बन जाए । – नैट्रम कार्ब ३०
  • दर्द करने वाले कठोर मस्से । – सल्फर ३० या २००
  • हथेली पर मस्से ।- नैट्रम म्यूर २००
  • हाथों पर मस्से । – काली म्यूर 6X या ३०
  • जननेन्द्रिय की आगे की त्वचा के अगले हिस्से पर , शरीर पर बड़े – बड़े काले मस्से । – काली म्यूर 6X या ३०
  • बायोकैमिक औषधि : साइलिशिया 12X
  • अन्य महत्वपूर्ण दवाएं : कासनोसिन , डल्कामारा , मैडोराइनम , नैट्रम सल्फ , साइलिशिया , स्टेफिसएगेरिया , आदि ।
https://homeomart.com/?ref=9kz7veg4se

बिवाइयों (Chilblains) को जड़ से करें खत्म. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजें (immunity booster things). पाएं सफेद दाग (Leucoderma) से हमेशा के लिये छुटकारे होम्योपैथीक के द्वारा

Leave a Reply

Your email address will not be published.