मंत्रोच्चार करके ग्रहों का आह्वान करके ग्रहों को बुलाया जा सकता है ।

मंत्रोच्चार करके ग्रहों का आह्वान करके ब्राह्मण या तांत्रिक लोग ग्रहों को बुलाने का उपक्रम करते हैं । क्या वास्तव में आह्वान करने पर ग्रह आते हैं ? आते हैं तो कैसे ?

जिस प्रकार फोटोग्राफी कैमरे के छोटे से लैन्स में बड़े – बड़े भवन किले आदि समा जाते हैं उसी प्रकार हमारी आंखे में जो प्राकृतिक लैन्स लगा है इसमें पूरे ग्रह मण्डल , सूर्य , चन्द्रमा आदि समा जाते हैं । ऐसे ही सूक्ष्म रूप में सार ग्रह हवन कुण्ड में आ सकते हैं ।मंत्र भी ‘ वैध ‘ एवम् ‘ अवैध ‘ होते हैं । क्या आप जानते हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.