बहुमुत्र- ( बार – बार पेशाब आना ) का लक्षण और घरेलू उपचार ।

बहुमुत्र- ( बार – बार पेशाब आना ) का लक्षण क्या है ।

बहुमूत्र रोग में बार – बार पेशाब आती है । और थोड़ी – थोड़ी पेशाब आती है । बार – बार पेशाब जाने का मन करता है । यह रोग बच्चों तथा युवाओं को अधिक होता है और अधिकांशतः अनुवांशिक है । इस रोग में कब्ज , अपच , अधिक मुत्र आना , और नींद न आना इस तरह की शिकायतें रहती हैं । रोगी प्रतिदिन कमजोर होता जाता है कमर और कमर के नीचे के हिस्सों में दर्द रहता है ।

और पढ़े – अगर आपको भी मधुमेह या बहुमुत्र ( Diabetes ) है तो आप इन दवाओं का प्रयोग से मधुमेह को जड़ से खत्म कर सकते हैं

बहुमुत्र- ( बार – बार पेशाब आना ) का घरेलू उपचार:-

  1. आँवले का सूखा चूर्ण या आँवले का रस गुड़ के साथ मिलाकर लेने से बीमारी में लाभ होता है ।
  2. 20 ग्राम काले तिल और 10 ग्राम अजवायन को मिलाकर पाउडर बना लें फिर इस पाउडर को 50 ग्राम गुड़ में मिलाकर सुबह – शाम 1-1 चम्मच सेवन करें ।
  3. रीढे की गुठली का चूर्ण 1-1 चम्मच सुबह – शाम ताजे पानी से लेने पर बीमारी में लाभ मिलता है ।
  4. टेसूके फुल दालचीनी कलमी शोरा काले तिल राई – सभी को समान मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लें और प्रतिदिन सुबह – शाम शहद के साथ मिलाकर चाटें ।
  5. प्रातःकाल खाली पेट अदरक का रस 1 चम्मच लेने से बहुमूत्र की शिकायत दूर होती है ।
  6. बहेडा और जामुन की गुठली दोनों को बराबर मात्रा में पीस लें और प्रतिदिन 1 चम्मच सादा पानी के साथ लें ।
  7. रात्रि विश्राम से पहले गाय के दूध में पकाये हुये 4 छुआरे राने से बहुमूत्र के रोग में आराम मिलता है ।
  8. 10 ग्राम खसखस के दाने और 10 ग्राम गुड़ – दोनों को मिलाकर प्रतिदिन सुबह – दोपहर शाम सेवन करें ।
  9. पिस्ता , मुनक्का और काली मिर्च बराबर मात्रा में ( 6 दाने पिस्ता , 6 दाने मुनक्का , 6 काजु ) सुबह – शाम चबाकर खाने से बहुमूत्र ‘ की बीमारी में लाभ होता है ।
  10. मुलहठी , काली मिर्च और मिश्री तीनों को समान मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लें तथा प्रतिदिन सुबह – शाम आधा चम्मच चूर्ण घी में पेस्ट बनाकर चाटें ।

पेशाब बार – बार आने का आयुर्वेदिक उपचार –

काले तिल 200 ग्राम कूटकर 250 ग्राम गुड़ की चासनी में बीस – बीस ग्राम के लड्डू बनाकर सुबह शाम एक – एक खाएं । बच्चों को सिर्फ एक लड्डू दें । यह पेशाब के बार – बार आने की बढ़िया दवा है ।

इसे पढ़ें – नींद नहीं आने (अनिद्रा) के घरेलू उपचार एवं योगा । Home treatment of Insomnia

Leave a Reply

Your email address will not be published.