बछड़ों का न्युमोनिया का कारण एवं उपचार । SYMPTOMS & TREATMENT OF CALF PNEUMONIA

बछड़ों को न्युमोनिया क्यों हो जाता है ।

बछड़ों में वायरल तथा बैक्टीरियल न्युमोनिया 2-5 महीने की उम्र के बछड़ों में अधिक होता है लेकिन जन्म के बाद पहले सप्ताह में और कभी कभी 8-12 महीने के बछड़ों में भी हो सकता है । ऐसा न्युमोनिया सर्दी के दिनों में अधिक होता है क्योंकि अधिकतर बछड़ों के लिए सर्दी से बचने के लिए अच्छी व्यवस्था नहीं होती है ।

और पढ़ें – पशुओं में निमोनिया का होम्योपैथिक दवाई

बछड़ों का न्युमोनिया का कारण क्या है । ETIOLOGY OF CALF PNEUMONIA

वाइरस – Parainfluenza – 3 virus ( most common )

– Respiratory syncytical virus ( RSV ) – Fatal pneumonia

-Adenovirus , Rhinovirus , Reovirus .

बैक्टीरिया- Mycoplasma , Clemedia , Pastaurella , Corynebacterium . रोगी बछड़े के सीधे सम्पर्क में आने से और हवा के द्वारा भी स्वस्थ पशुओं में भी इन्फेक्शन हो जाता है ।

और पढ़ें – पशुओं में खांसी (Cough) का होम्योपैथिक दवा

बछड़ों का न्युमोनिया का लक्षण क्या है । SYMPTOMS OF CALF PNEUMONIA

बैक्टीरियल व वाइरल न्युमोनिया के लक्षण लगभग एक जैसे ही होते हैं

  • अधिक बछड़ों में एकाएक न्युमोनिया , तेज फीवर ( 105-107° फारेनहाइट)
  • हल्का गाढ़ा या म्युकस व मवाद मिला हुआ नेजल डिस्चार्ज ।
  • ऑस्कलटेशन- तेज व कर्कश सांस की आवाज ( harsh , loud )
  • Lung emphysema के कारण तेज cracking आवाज भी सुनाई दे सकती है ।
  • इसके अलावा dry or moist rales भी सुनाई दे सकती है ।
  • सांस लेने में तकलीफ ( dyspnoea ) से मुंह खुला रख कर सांस लेना ।
  • वाइरल न्युमोनिया में रुक रुक कर खांसी ( harsh hacking cough )
  • शुरु में कब्ज ( constipation ) लेकिन बाद में दस्त ( diarrhoea )
  • एकाएक तेज न्युमोनिया में बछड़े कुछ ही घंटों में मर जाते हैं जबकि हल्के न्युमोनिया में इलाज करने के बाद 4-7 दिन में ठीक हो जाते हैं ।

बछड़ों का न्युमोनिया का डायग्नोसिस कैसे करें । DIAGNOSIS OF CALF PNEUMONIA

  • लक्षण , नेजल डिस्चार्ज व पोस्टमॉर्टम द्वारा ।
  • Differential diagnosis –

– Lung worm infestation – No temp .

-Calf Dyptheria – मक्खन जैसे विशेष अल्सर

बछड़ों का न्युमोनिया का उपचार । TREATMENT OF CALF PNEUMONIA

  • वाइरस पर एंटीबायोटिक्स का असर नहीं होता है इसलिए बैक्टीरियल न्युमोनिया में एंटीबायोटिक्स दें ।
  • टेट्रासाइक्लिन या क्लोरमफेनिकोल – दिन में दो बार देवें ।
  • इलाज यथासंभव जल्दी शुरु करें तथा पांच दिन तक दवाइयां दें

बछड़ों का न्युमोनिया का रोक थाम । CONTROL OF CALF PNEUMONIA

  • पशुघर को साफ रखें तथा बछड़ों को भीड़ में न रखें ।
  • सर्दी में बछड़ों को ठंड से बचाव हेतु पुख्ता व्यवस्था रखें ।
  • जन्म के बाद कुछ महीनों तक बछड़ों के रखरखाव पर विशेष ध्यान दें ।
  • Calf Pneumonia की कोई असरदार वैक्सीन उपलब्ध नहीं है ।

इसे पढ़ें – पशुओं के पेट मे किड़े का अचुक होम्योपैथीक दवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.