फोड़े-फुंसी {Boils} जड़ से खत्म

  1. प्रथम अवस्था में जब दाने लाल हों , दर्द , सूजन , व जलन हो । – बैलाडोना ३० , दिन में ३-४ बार
  2. जब मवाद बनना शुरू हो जाए । – मर्क सौल ३० , दिन में ३-४ बार
  3. असहनीय दर्द हो । यदि फोड़ा ठीक से पका न हो । रोगी अति संवेदनशील हो । – हिपर सल्फ 3X , हर २ घंटे बाद
  4. जब फोड़ा बैठने की स्थिति में हो । – हिपर सल्फ २०० या 1M , की २ – ३ खुराक
  5. फोड़े की मवाद निकालनी हो तो । ठण्डी प्रकृति के रोगी के लिए । – साइलिशिया 12X या ३० , दिन में ३-४ बार
  6. छोटे – छोटे अत्यधिक दाने जैसे कोई घनी फसल उगी हो । – आर्निका ३० , दिन में 3 बार
  7. मवाद निकल जाने के बाद फोड़ा सुखाने के लिए । – कैल्कोरिया सल्फ 6X , दिन में 3 बार
  8. मसूड़ों में दांतों की जड़ों में फोड़ा । – मर्क सौल ३० , दिन में ४ बार
  9. यदि फोड़े – फुन्सियों में जलन ज्यादा हो , बेचैनी हो । – आरसेनिक ६ या ३० , दिन में ३ बार
  10. जब फोड़े – फुन्सियां बार बार हों । – सल्फर ३० , दिन में ३ बार
  11. आप Bakson Sarsa aid blood purifier for acne, boils, skin rashes, blemishes, mild eczema को भी यूज़ कर सकते हैं क्योंकि यह बहुत जो लाभदायक है।
https://homeomart.com/?ref=9kz7veg4se

बाह्य प्रयोग के लिए कैलेन्डुला Q , व इचिनेशिया Q गर्म पानी में मिला कर प्रयोग करें ।।

खुजली (Scabies) भगायें होम्योपैथक अपनाएं अब किल-मुहासों (Pimples) से न हो परेशान बस अपनाएं ये होम्योपैथीक दवाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.