पशुओं को होने वाले पेरोटाइटिस ( PAROTITIS ) का होमियोपैथीक उपचार

पेरोटाइटिस ( PAROTITIS ) क्या है ?

पशुओं में parotid , mandibular and sublingual की एक – एक जोड़ी लार ग्रंथियां होती हैं लेकिन प्रायः इनमें पैरोटिड ग्लेण्ड ही प्रभावित होती है इसलिए इसे पैरोटाइटिस कहा जाता है जिसकी परिणति अक्सर एब्सेस में होती है ।

पेरोटाइटिस ( PAROTITIS ) होने का कारण(ETIOLOGY) क्या है?

  • किसी अन्य पशु द्वारा काटने के घाव , बाहरी चोट के कारण ।
  • लार ग्रंथि में कोई स्टोन ( salivary calculi ) बन जाना । विटामिन – ए की कमी । यह एक प्रमुख कारण ।
  • ब्लड के जरिए हुए किसी इन्फेक्शन का पेरोटिड ग्रंथि में जम जाना ।

पेरोटाइटिस ( PAROTITIS )के लक्षण ( SYMPTOMS ) क्या हैं ?

  • कम खाना , तेज बुखार ।
  • प्रायः एक ओर की पेरोटिड ग्लैण्ड ही प्रभावित होती है । लेकिन दोनों भी हो सकती है ।
  • Hot , painful swelling – सूजन कान व जबड़े तक फैल जाती है ।
  • कान का आधार भी सूजकर मोटा हो जाता है ।
  • पशु सिर व गर्दन को सीधे रखता है , चारा चबाने में तकलीफ होती है ।
  • इन्फेक्शन में एब्सेस बन जाती है जिसे ओपन करने पर कम हो जाती है ।
  • इस दौरान पेरोटिड ग्लेण्ड की कार्यप्रणाली तो सामान्य रहती है ।
  • कभी – कभी फिस्चुला बन जाता है और लार गर्दन वाले भाग में इकट्ठी हो जाती है ।

पेरोटाइटिस ( PAROTITIS ) का उपचार (TREATMENT) क्या है?

  • Acute inflammation – Cold fomentation
  • Chronic inflammation – Hot fomentation
  • Paranchymatous parotitis ( actue inflammation )

– Inj . Tetracycline for 5days I / M .

-Dont’s apply any local ointment .

  • Suppurative parotitis ( Chronic inflammation )

– Apply- iodine ointment and hot fomentation

– Immature abscess को ओपन नहीं करें ।

-Mature होने पर ओपन करें और पांच दिन तक ड्रेसिंग करें ।

-Broad Spectrum Antibiotics for 5 days

-Antinflammatory for 3 days

– If salivary fistula – Cauterise with carbolic acid .

पेरोटाइटिस ( PAROTITIS ) के होम्योपैथीक दवा क्या है ?

  • बेरिटा कार्बोनिका ( Baryta Carbonica ) – छोटे बछड़ों में यह रोग होने पर दिन में दो बार पांच दिन तक दें ।
  • बेलाडोना 1000 ( Belladonna 1M ) – जब पेरोटाइटिस में सूजन के साथ त्वचा गर्म हो , सूजन कठोर हो तो बेलाडोना हर घंटे चार – पांच बार दें ।
  • हिफर सल्फ ( Hepar Sulph ) – ग्लेण्ड की सूजन के साथ तेज दर्द हो तथा मवाद बननी शुरू हो गई हो ।
  • पल्सेटीला ( Pulsatilla ) – जब दाहिने साइड की पैरोटिड ग्लैण्ड में सूजन हो तो दिन में दो बार चार दिन तक दें ।
  • फायटोलेका ( Phytolacca ) – जब पेरोटिड ग्लेण्ड में कठोर सूजन हो , मवाद नहीं बनी हो तथा आस पास की दूसरी ग्लेण्ड्स भी प्रभावित हो सकती है तो पांच बूंद दिन में तीन बार तीन दिन तक दें ।

गाय के कुछ गम्भीर रोगों के होम्योपैथिक एवं घरेलु उपचार इन 2021

पशुओं में होने वाले रिंग वर्म ( RING WORM ) का उपचार

1 Reply to “पशुओं को होने वाले पेरोटाइटिस ( PAROTITIS ) का होमियोपैथीक उपचार”

  1. Neat blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere? A theme like yours with a few simple adjustements would really make my blog shine. Please let me know where you got your theme. Many thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published.