पित्त की पथरी का ( Gall Stone Colic ) का होम्योपैथक दवा

  • पित्त की पथरी के दर्द की खास दवा । दुःसाध्य यकृतीय कैन्सर । :- कोलेस्ट्रीनम 3X या ६x , दिन में ३ बार
  • जब दर्द दाँए कन्धे के निचले हिस्से में हो । यकृत में दबाने से दर्द महसूस हो । चेहरा पीला , फीका सा लगे । उल्टियाँ आएं । पसीना पीला दाग छोड़े । :- चैलिडोनियम ३० , दिन में ३ बार
  • पित्त की थैली में पथरी । पीलिया । यकृत प्रदेश में बेचैनी एवम् भारीपन महसूस हो । :- कार्ड्सअस मैरिएनस Q या ६ , दिन में ३ बार
  • पित्त की पथरी व पीलिया । खाने की इच्छा न हो । ठण्ड लगे । :- नक्स वोमिका ३० , दिन में ३ बार
  • जब रोगी को ठण्डे पेय पीने की तीव्र इच्छा हो । :- फॉस्फोरस २०० , सप्ताह में एक बार
  • जब पित्त की पथरी का दर्द बंधे समय पर आए ( periodical ) । यकृत में छूने एवम् दबाने से दर्द महसूस हो । खाने की इच्छा न हो जबकि भूख लगती हो । पाचन क्रिया मन्द हो । :- चाइना ६ या ३0, दिन में ३ बार
  • पित्त की पथरी का बनना रोकने के लिए । जब साथ में कब्ज़ भी हो । :- चियोनेन्थ्स विर Q , दिन में ३ बार
  • पित्त की पथरी ; खाने की खुशबू से मिचली आए । भूख न लगे । :- कोल्चिकम ३० , २-3 खुराक

रोगी अन्य लक्षणों को ध्यान में रख कर सही चुनी गई दवा एवम् उसकी शकि आवश्यकतानुसार लें ।.

नींद न आना ( Insomnia ) के कारण तथा उसका होम्योपैथक दवा ट्यूमर ( Tumour ) का लक्षण एवं उसका होम्योपैथिक दवाएँ गुर्दे में पथरी ( Renal Calculus ) का लक्षण तथा होम्योपैथिक दवाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.