पाएं सफेद दाग (Leucoderma) से हमेशा के लिये छुटकारे होम्योपैथीक के द्वारा

वैसे तो अभी तक इस रोग की उत्पत्ति के बारे में ठीक से मालूम नहीं है परन्तु लक्षणों के अनुरूप की जाने वाली होम्योपैथिक चिकित्सा इस रोग में फायदेमन्द है ।

  • त्वचा पर सफ़ेद दाग । जननांगों के आस – पास की त्वचा छिल जाए । – आर्स सल्फ फ्लेवम ६ या ३० , आवश्यकतानुसार
  • त्वचा की परत का मोटा हो जाना । अत्यधिक पसीना । असहनीय ख़ारिश ख़ासकर तलुओं में । यदि आर्स सल्फ़ फ़्लेवम से फायदा न हो । – हाइड्रोकोटाइल ३०
  • यदि रोगी को तपेदिक रोग ( tuberculosis ) हुआ हो या परिवार में ऐसा इतिहास हो । – ट्यूबरकुलाईनम २0० या 1M , आवश्यकतानुसार
  • साइकोटिक ( sycotic ) म्याज्म से ग्रसित रोगियों का इलाज शुरू करने के लिए । – मैडोराइनम २०० या 1M , आवश्यकतानुसार
  • आप Bhargava No 14 Lecodin drops भी युज कर सकतें हैं।
https://homeomart.com/?ref=9kz7veg4se

अन्य महत्वपूर्ण दवाएं : सल्फर , सोराइनम , लाइकोपोडियम , काली कार्य , सीपियश , आर्निका , कॉस्टिकम , एपिस मैल , आर्सेनिक एल्ब , ऑरम मैट , कैल्केरिया कार्ब , ग्रेफाइट्स , नेट्रम म्यूर , माइका , नाइट्रिक एसिड , फॉसफोरस , साइलिशिया , आदि ।

कुछ लोगों के मतानुसार बावची ऑयल या सोरेलिया Q के बाह्य प्रयोग से व सोरेलिया Q कुछ दिन लगातार लेने से फायदा होता है । परन्तु हमने देखा है कि सिर्फ व्यक्तिपरक ( constitutional ) चिकित्सा से ही इस रोग से ग्रसित रोगी को फायदा होता है ।

कॉर्न या गट्टे (Corns) का होम्योपैथिक दवा 🍻. एक्जीमा (Eczema) से छुटकारा होम्योपैथिक के द्वारा. फोड़े-फुंसी {Boils} जड़ से खत्म

Leave a Reply

Your email address will not be published.