पशुओं में खांसी (Cough) का होम्योपैथिक दवा

कई रोगों में जब रेस्पिरेटरी सिस्टम भी शामिल हो जाता है तो खांसी , गले में सूजन , फेफड़ों में सूजन , ब्रोंकाइटिस , प्लूरेसी , न्युमोनिया , आवाज में बदलाव आदि कई लक्षण नजर आते हैं ।

  • एकोनाइट ( Aconitum ): जब सूखी , छोटी खांसी , बुखार हो , श्वास मार्ग में सूजन हो तो एकोनाइट दिन में तीन बार दें ।
  • बेलाडोना ( Belladonna ): सुखी खांसी , कम समय के लिए खांसी हो , शाम या रात को तेज खांसी हो , खांसी के साथ गले में चुभन सी हो , इसके अलावा कई दिनों से चली आ रही खांसी हो तो बेलाडोना दिन में तीन बार खांसी कम होने तक दें ।
  • एपिस मैल ( Apis mel ): जब खांसी में बेलाडोना से कोई लाभ नहीं हो तो एपिस मैल दें । जब गले में सूजन के साथ खांसी के समय दर्द हो , सांस में तकलीफ हो कभी कभी दर्दनाक खांसी के साथ मुंह से रस्सी की तरह म्युकस निकलता हो ।
  • आर्सेनिकम ( Arsenicum ) : सुखी खांसी शाम या रात को अधिक हो , खाना खाने या पानी पीने के बाद अधिक हो , ठंडी हवा के सम्पर्क में आते ही अधिक हो , सांस में तकलीफ हो , नाक से पतला डिस्चार्ज हो ।
  • नक्सवोमिका ( Nuxvomica ): सूखी खांसी , खरास , सुबह अधिक खांसी , एक्सरसाइज या खाने के बाद अधिक खांसी , खांसी के साथ पेट की भी गड़बड़ी हो , कब्ज हो तो दिन में तीन चार बार दें ।
  • ड्रॉसेरा ( Drosera ): क्रॉनिक खांसी जो अधिक दिनों से हो , भारी खांसी , रात में अधिक आती हो ।
  • ब्रायोनिया ( Bryonia ): लम्बे समय से चली आ रही सूखी खांसी , खाना खाने या पानी पीने के बाद खांसी अधिक हो , सूखी खांसी , विशेषकर सुबह – सुबह खांसी हो ।
  • आयोडियम ( lodium ): जब खांसी लेरिंक्स और ट्रेकिया से अधिक हो , नाक से बदबूदार डिस्चार्ज आता हो , कई दिनों से खांसी हो ।
  • एंटिमनी टार्ट ( Antimonium Tart ): खांसी ब्रोकियल भाग से अधिक हो , गीली खांसी , अधिक मात्रा में म्युकस निकलता हो , खांसी में दर्द हो । –
  • फॉस्फोरस ( Phosphorus ) : ठंडी हवा के कारण खांसी हुई हो , खांसी सूखी हो , गले में चूमन सी , गले में से कफ भी निकलता हो , सांस में तकलीफ हो ।
  • सल्फर ( Sulphur ) : लम्बी खांसी में अन्य दवाइयों से कोई लाभ नहीं होने पर सल्फर दें । यह दवा पहले की दवाइयों के साथ एक के बाद एक दे सकते हैं । खांसी में जब लक्षणों के मुताबिक सही दवा का चयन किया गया हो लेकिन फिर भी कोई असर नहीं हो तो उसके साथ सल्फर दें ।
  • बायोकेमिक दवाइयों का मिश्रण:- केल्केरिया फॉस 3x , केल्क फ्लोर 3x , फेरम फॉस 12x , काली स्यूर 3x काली फॉस 3x , काली सल्फ 3x , नैट्रम फॉस 3x , गैट्रम म्यूर 3x नैट्रम फॉस 3x , नैट्रम सल्फ 3x , साइलिसिया 12x इन सभी को मिला कर दिन में दो तीन बार दें ।

मवेशियों में सर्दी जुकाम (Common Cold Or Catarrh) का होम्योपैथिक दवापशुओं को भूख न लगना ( ANOREXIA ) का होम्योपैथीक दवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.