पशुओं को होने वाले दस्त ( DIARRHOEA ) का होम्योपैथीक दवा

दस्त ( DIARRHOEA ) क्यों होता है । और कारण क्या है ?

दस्त विभिन्न तरह की हो सकती है । दूषित चारा पानी , पेट के कीड़े , हरे चारे का अधिक मात्रा में खाने से , अधिक मेहनत आदि कारणों से हो सकती है । पानी जैसी बार बार दस्त होने से पशु निरन्तर कमजोर होता जाता है । भूख नहीं लगती है , कमर से सिकुड़ जाता है । पेट भी फूल जाता है , पेट में दर्द रहता है ।

दस्त ( DIARRHOEA ) का होम्योपैथीक दवा क्या है ?

  • एकोनाइट ( Aconite ) – इसे दस्त की शुरूआती अवस्था में दे जब दस्त के साथ हल्का बुखार हो । 5 बूंद हर दो तीन घंटे बाद , 2-3 बार ।
  • नक्सवोमिका ( Nuxvomica ) – पतले , बदबूदार दस्त , गैस भी निकलती हो , दस्त के साथ कब्ज , नक्स कुछ दिन तक देने के बाद एसिड फॉस या मर्क देना चाहिए ।
  • आर्सेनिकम ( Arsenicum ) – पतले दस्त , हरे भूरे रंग के दस्त , गड़गडाहट , दर्द हो भी सकता है और नही भी ।
  • मर्कयूरिस ( Mercurius ) – जब गोबर के साथ म्युकस आती हो , हल्का दर्द हो । ऐसे में इसे आर्सेनिकम के साथ बदल कर दे सकते है ।
  • एसिडकम फॉस ( Acidicum Phos ) – इसके लक्षण आर्सेनिकम जैसे ही रहते है ।
  • चायना ( China ) – क्रॉनिक डायरिया में यह उपयोगी है , जब दस्त गर्मी के कारण हो , दर्द नही हों । भूख नहीं लगती हो । इसको दस्त कम होने के बाद एक टॉनिक के रूप में भी दे सकते है । दिन में दो बार दें ।
  • ब्रायोनिया ( Bryonia ) – जब दस्त के बाद कब्ज हो , जब वातावरण में गर्मी से ठंड का बदलाव हो , दस्त बहुत ज्यादा पतली हो ।
  • वेराट्रम एल्बम ( Veratrumalbum ) – बार बार तेज पतले दस्त से भयंकर कमजोरी , पशु निढाल सा मुंह लटकाए लेटा रहता हो , शरीर ठंडा पड़ गया हो । शुरू में इसे हर आधे घंटे बाद दें , फिर लक्षण कम होने के बाद अन्तराल बढ़ाते जाए ।
  • पल्सेटिला ( Pulsatilla ) – यह बछड़ो के दस्तों में काफी उपयोगी है । 5 बूंद दिन में दो बार दें ।

पशुओं में आफरा (RUMINAL TYMPANY) का कारण, लक्षण एवं उपचार Treatment of animals RUMINAL TYMPANY

पशुओं में होने वाले रिंग वर्म ( RING WORM ) का उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.