दाद (Ringworm) होगा हमेसा के लिए गायब बस खाएं होम्योपैथिक दवा

दाद की बहुत सी लगाने वाली दवाएं बाज़ार में मिलती हैं , किंतु दाद उनसे एक बार अच्छा होने के बाद दुबारा या तिबारा हो जाता है । लक्षणों के अनुसार होम्योपैथिक दवा देने से सदा के लिए आराम हो जाता है तथा अन्य कोई विकार नहीं रहता ।

  • जब रोगी गर्म व सर्द दोनो प्रकार के मौसम के प्रति संवेदनशील हो । –बैसिलिनम २०० , या 1M , सप्ताह में एक बार
  • जननेन्द्रिय या अंडकोष के पास दाद जो सर्दियों में बढ़े , रोगी ठण्डी प्रकृति का हो ।- हिपर सल्फ ३० , दिन मे 3 बार
  • दाद जिसमें अत्यधिक खुजली हो ( खासकर चेहरे पर नाई के यहां के उस्तरे के इस्तेमाल की वजह से) । – टैल्यूरियम ३० , दिन में ३ बार
  • मोटे थुलथुले रोगियों में दाद , जिनके हाथ पैर ठंडे रहते हैं।- कैल्केरिया कार्ब ३० या २०० , दिन में ३ बार
  • जब अम्ल ( acid ) ज्यादा हो , भूख न हो , और उपरोक्त दवाओं से फायदा न हो । – सल्फर ३० , दिन में २-३ बार
  • अंगूठी की तरह गोल दायरे वाले दाद के लिए । भूरे रंग के दाने जिनसे खुश्क , सफेद परत उतरे । सुई चुभने का सा अहसास । – सीपिया ३० , दिन में ३ बार
  • जीभ पर दाद । ( ख़ासकर दाहिनी ओर ) । – सैनिकुला ३० , दिन में २-३ बार
  • जीभ के दाहिने भाग पर दाद । – नैट्रम म्यूर ३० , दिन में २-३ बार
  • जब रोग पूरे शरीर पर फैला हो – जलन हो । जल्दी ठीक होने का नाम न ले । – सोराइनम ३० , दिन में २-३ बार
  • जलन के साथ दाद , खुश्क परत सी उतरे व ख़ारिश हो । – बाविस्टा ३० या २०० , दिन में २ बार
  • Dr.Reckeweg R82 Mycox for ringworm, jock itch, vaginal yeast, fungal skin यह काफी फायदेमंद दवा है।
https://homeomart.com/?ref=9kz7veg4se

होम्योपैथीक से करें हाई ब्लड प्रेशर दूर. फोड़े-फुंसी {Boils} जड़ से खत्म. अब किल-मुहासों (Pimples) से न हो परेशान बस अपनाएं ये होम्योपैथीक दवाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.