कीर्तन में ताली बजाने के लाभ ?

श्रीरामकृष्ण देव कहा करते थे , ‘ ताली बजाकर प्रातः काल और सायं काल हरिनाम भजा करो । ऐसा करने से सब पाप दूर हो जाएंगे । जैसे पेड़ के नीचे खड़े होकर ताली बजाने से पेड़ पर की सब चिड़ियां उड़ जाती हैं , वैसे ही ताली बजाकर हरिनाम लेने से देहरूपी वृक्ष से सब अविद्यारूपी चिड़ियां उड़ जाती हैं ।

प्राचीन काल से मंदिरों में पूजा , आरती , भजन – कीर्तन आदि में समवेत् रूप से ताली बजाने की परंपरा रही है , जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने का एक अत्यंत उत्कृष्ट साधन है । चिकित्सकों का कहना है कि हमारे हाथों में एक्यूप्रेशर प्वाइंट्स अधिक होते हैं । ताली बजाने के दौरान हथेलियों के एक्यूप्रेशर केंद्रों पर अच्छा दबाव पड़ता है । जिससे शरीर की अनेक बीमारियों में लाभ पहुंचता है और शरीर निरोगी बनता है , अतः ताली बजाना एक उत्कृष्ट व्यायाम है ।

इससे शरीर की निष्क्रियता खत्म होकर क्रियाशीलता बढ़ती है । रक्त संचार की रुकावट दूर होकर अंग ठीक तरह से कार्य करने लगते हैं । रक्त का शुद्धिकरण बढ़ जाता है और हृदय रोग , रक्त नलिकाओं में रक्त का थक्का बनना रुकता है । फेफड़ों की बीमारियां दूर होती हैं । रक्त के श्वेत रक्तकण सक्षम तथा सशक्त बनने के कारण शरीर में चुस्ती , फुर्ती तथा ताजगी का एहसास होता है । रक्त में लाल रक्तकणों की कमी दूर होकर वृद्धि होती है और स्वास्थ्य सुधरता है ।

अतः पूजा – कीर्तन में तालबद्ध तरीके से अपनी पूरी शक्ति से ताली बजाएं और रोगों को दूर भगाएं । इससे तन्मय होने और ध्यान लगाने में भी सुविधा होगी ।

इसे पीढ़ें – गणेश जी की प्रथम पूजा क्यों होती हैं । Why we Worship Ganesh Frist

Leave a Reply

Your email address will not be published.