गुर्दे में पथरी ( Renal Calculus ) का लक्षण तथा होम्योपैथिक दवाएं

मूत्रतन्त्र की क्रियाओं में गड़बड़ी होकर चूर्ण की तरह का पदार्थ , जैसे कि कैल्शियम ऑग्जीलेट , कैल्शियम फॉस्फेट , सिस्टिन , जैन्थिन , आदि , गुर्दे या मूत्राशय में इकट्ठा होने लगता है । इसे गुर्दा या मूत्र – पथरी कहते हैं । जब यह खिसक कर मूत्रा – नली में आ जाता है तो असहनीय दर्द हो सकता है ।

लक्षण : पेशाब में रूकावट , बार – बार पेशाब होना , कभी – कभी पेशाब के साथ खून आना , असहनीय दर्द , जलन , आदि ।

  • गुर्दे में असहनीय दर्द , ख़ास कर जब दर्द बाई तरफ हो और मूत्रद्वार तक फैले ; बार – बार पेशाब की इच्छा । दर्द जो एक जगह से दूसरी जगह चलता फिरता लगे । :- बर्बेरिस वल्गरिस Q या ६ , आवश्यकतानुसार
  • पुराने रोग में पेशाब गाढ़े लाल रंग का , पेट में वायु की अधिकता , दर्द दाईं तरफ , पेशाब धीरे – धीरे आए , ज़ोर लगाना पड़े , कभी – कभी पेशाब में रूकावट । शाम को ४ से ८ बजे रोग वृद्धि । गर्म पेय व खाने की इच्छा । :- लाइकोपोडियम ३० , सुबह व दोपहर के समय दें
  • मूत्र – पथरी के दर्द में इतनी तकलीफ हो कि रोगी दर्द के कारण लेटने लगे , बूंद – बूंद पेशाब आए । पेशाब घुटनों के बल झुककर सिर को फर्श पर ज़ोर से दबाने के बाद आए ।:- पैरिअरा ब्रावा ३० , दिन में ३ बार
  • पेशाब में बहुत तेज़ जलन व दर्द , पेशाब गाढ़ा व खून मिला , धुंधला , कालापन लिए हुए ।पेसाब में नीलपुष्पों के समान गन्ध आए । बिना किसी दर्द के पेशाब में खून आए । :- टैरेबिन्थया ६ , आवश्यकतानुसार
  • पेशाब में सफेद चूर्ण , ख़ास कर बाईं तरफ दर्द । :- हाइड्रेन्जिया Q या ६ , आवश्यकतानुसार
  • पेशाब के अंत में असहनीय दर्द , खड़े होकर पेशाब करने से पेशाब आसानी से हो जाए । गर्म खाने – पीने से तकलीफ बढ़े पर गर्म सेक से आराम हो । दाहिनी ओर के गुर्दे में दर्द । पेशाब में रेत के समान पथरी का चूरा आए । जननांगों से असहनीय बदबू आए । :- सरसापरिला ६ या ३० , आवश्यकतानुसार
  • गुर्दे व मूत्राशय में सूजन , तेज़ कटने – फटने जैसा दर्द , पेशाब मुश्किल से हो , पेशाब की जगह बूंद – बूंद करके खून आए । पेशाब की हाजत लगातार बनी रहे । :- कैन्थेरिस ३० , दिन में ३ बार
  • बायोकैमिक औषधि :- मैग्नेशिया फॉस 6x
  • अन्य महत्वपूर्ण दवाएं : एकोनाइट , आर्निका , कोलोसिंथ , कैमोमिला , मैग्नेशिया फॉस , मैडोराइनम , स्टेफ़िसएगेरिया , आदि ।
  • Allen A37 Renal Calculi Drops for Kidney Stones
https://homeomart.com/?ref=9kz7veg4se

सामान्य देख रेख : साफ , स्वच्छ पानी खूब मात्रा में पीना चाहिए । यदि पथरी कैल्शियम की हो तो दूध एवम् दूध से बनी चीजों का परहेज़ करें । पथरी यदि ऑग्जेलेट की बनी हो तो पत्ते वाली सब्जियाँ , जैसे पालक एवम् टमाटर , आदि का परहेज करें ।

छोटी माता ( Chicken Pox ) का होम्योपैथिक उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.