रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजें (immunity booster things)

हमारी सेहत में जो भी बदलाव होते हैं उसकी सबसे बड़ी वजह है हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता(immunity) का काम या ज्यादा होना । इसलिए यह जरूरी है कि हम अपनी इस कि क्षमता को बढ़ाते रहें। इसको बढ़ाने के कुछ जरूरी उपाय हम आपको बताते हैं-

बादाम- रोजाना 8-10 बादाम के दानेे पानी मे भिगोकर खाने सेे सरीर केे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैैं तथा इसके सेवन से दिमाग को तनाव सेे लड़ने की शक्ति भी मिलती है । बादाम शरीर में बि-टाइप की कोशिकाओं की संख्या बढ़ानेे का भी काम करता है । ये कोशिकाएं एंटीबॉडीज का निर्माण करती है , जो शरीर में मौजूद नुकसानदेह बैक्टीरिया को नष्ट करने में सहायक होता है।चुकी हम जानते हैं कि बदाम में विटामिन -C पाया जाता है जो कि त्वचा को स्वस्थ बनाने के साथ-साथ झुर्रियां पड़ने की प्रक्रिया को भी धीमा कर देताा है।

संतरा- संतरा नींबू अनन्नास और चकोतरा जैसे खट्टे फलों में विटामिन- C पर्याप्तत मात्रा मैं पाया जाता है , जो हर तरह के संक्रमण से लड़ने वाली श्वेेेत रक्त कोशिकाओं का निर्माण करने में सहायाक होता है। इनके सेवन सेेेेे बनने वाली एंटीबॉडीज कोशिकाओं की सतह पर एक आवरण बन जाता है, जो शरीर के भीतर वायरस आने नहीं देता है ।

पालक- पौष्टिक तत्वों से भरपूर इस पत्तेदार सब्जी को सुपर फूड के नाम सेे जाना जाता है। इसमें पोलेट नामक ऐसा तत्व पाया जाता है, जो शरीर में नई कोशिकाएंं बनाने के साथ उन कोशिकाओंं मैं मौजूद डीएनए की मरम्मत का भी काम करता है। साथ ही इसमें मौजूद फाइबर आयरन, एंटीऑक्सीडेंट तत्व और विटामिन सी शरीर को हर तरह से स्वास्थ्य बनाए रखते हैं । पालक को उबालकर सेवन करने से पाचन तंत्र सही ढंग से काम करता है और कब्ज की समस्या दूर हो जाती है।

मशरुम- शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता की मजबूती के लिए सदियों से पूरी दुनिया में मशरूम का सेवन किया जाता है । यह श्वेत रक्त कोशिकाओं को सक्रिय करने में सहायक होता है। इसमें सेलेनियम नामक मिनरल, एंटीऑक्सीडेंंट तत्व, विटामिन बी, रिबोफ्लेविन और नाईसिन पाया जाता है। इनके कारण मशरूम मे एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीट्यूमर तत्व पाए जाते हैं। यदि प्रतिदिन 30 ग्राम मशरूम का सेवन किया जाए तो इम्यून सिस्टम मजबूत बना रहता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.