अगर आपको भी होती है यात्रा के दौरान उल्टी ( Travel Sickness ) तो अपनाएं ये होम्योपैथिक दवाएं

कई व्यक्तियों को रेल , बस , नाव , जहाज़ , आदि , में यात्रा करने पर जी मिचलाने लगता है । पहाड़ों की यात्रा में , बस या रेल से यात्रा करने पर जी मिचलाना व उल्टी हो जाती है । सबको यह कष्ट नहीं होता , परंतु कुछ लोगों को यह कष्ट अत्यधिक होता है । यात्रा के दौरान नींबू चूसना , या इलायची मुंह में रखना लाभदायक है ।

  1. कार , बस या जहाज़ में यात्रा करने से उल्टी । – काकुलस इण्डिका ३० , हर १ घंटे बाद
  2. कार से यात्रा करने से । – पैट्रोलियम ३० , हर २ घंटे बाद
  3. सिगरेट का धुंआ बुरा लगे , चक्कर आएं , व जी मिचलाए । – स्टेफ़िसएगेरिया ३० , हर आधे घंटे बाद
  4. हवाई जहाज़ से यात्रा करने के दौरान । – बैलाडोना ३० , हर आधे घंटे बाद
  5. आंख बंद करने , पानी पीने , व पानी की ओर देखने से उल्टी । हर आवाज़ शरीर के सभी अंगों को भेदती सी लगे और उल्टी एवम् चक्कर आएं । – थेरिडियोन ३० , हर २ घंटे बाद
  6. जब जहाज नीचे उतरे उल्टी हो या चक्कर आएं । – बोरैक्स ३० , दिन में 3 बार
  7. खट्टी उल्टी ; कम सोने के कारण कष्ट बढ़े । – नक्स वोमिका ३० , दिन में ३ बार
  8. पर्वतों पर जाने से उल्टी , मिचली , आदि , आएं । – कोका ६ या ३० हर आधे घंटे बाद
  9. पर्वतों पर जब लगे कि दिल शिकंजे में जकड़ा है। – कैक्टस या ६ , हर २ घंटे बाद
  10. किसी भी प्रकार के Travel Sickness के लिये -Dr.Reckeweg R52 drops for Vomiting, Travel sickness, Nausea 
https://homeomart.com/?ref=9kz7veg4se

दर्दे दिल ❤️ (Angina Pectoris) की दवा सिर्फ होम्योपैथिक है. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली चीजें (immunity booster things)

Leave a Reply

Your email address will not be published.