अण्डकोष में वृद्धि का होम्योपैथी इलाज

  1. कल्के फ्लोर 30 , 200 : अण्डकोष सख्त , कड़ा मालूम हो तो प्रयोग करें ( जलसंलय फूल जाना ) ।
  2. ब्रोमियम 6 , 30 : कान के आस – पास गाठों का फूलना – पकना , ऐसा बार – बार , उन रोगियों के अण्डकोष फूलना , दर्द कड़ा होने में प्रयोग करें ।
  3. हेमामेलिस 30 : अण्डकोष में सूजन दर्द ज्यादा हो तो खाने और Q को लोशन बनाकर लंगोत बाधे आराम हो जायेगा ।
  4. आर्निका 30 : यदि चोट – चपेट की वजह से अण्डकोष में सूजन , दर्द हो तो अन्दर बाहर प्रयोग करें ।
  5. स्पांजिया 30 : रोग पुराना हो , दर्द और सूजन हो , बाईं ओर तकलीफ हो तो प्रयोग करें ।
  6. आरम मेट 30 , 200 : दाहिनी ओर से अण्डकोष बड़ा , खड़ा होने पर दर्द , गोली के ऊपर की नसें , फूली , कड़ी , खींचने जैसा दर्द ।
  7. मर्क बिन 3x , 6 , 30 , : रोगी को सिफिलिस का पूर्व इतिहास अण्डकोष में वृद्धि ।
  8. क्लिमेटिस 6 , 30 : सूजाक का पूर्व इतिहास अण्डकोष में वृद्धि ।
  9. कोनियम मेट 30 : चोट के कारण फूलकर कड़ा होना ।
  10. केलेडियम 6 , 30 : अण्डकोष के चमड़े पर एक्जिमा चमड़ा मोटा होकर फूल जाना ।
  11. फेरम फांस 6x , 30 , : सूजाक के दबने पर दर्द सूजन हो ।
  12. टसिलेगो Q 2x , : सुजाक के मवाद बन्द होने पर अण्डकोष में बीमारी होने पर प्रयोग करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.