Khela Ho Be full hindi movie download

लाखों – करोड़ों दर्शक फिल्म ‘ खेला होबे ‘ का बेसब्री से इंतजार कर रहे । लेकिन , अब यह इंतजार खत्म होनेवाला है , क्योंकि यह फिल्म जल्द ही रिलीज होने जा रही है । ‘ थीम आर्ट्स इंटरनेशनल व सुनील सी सिन्हा प्रोडक्शन की हिंदी फिल्म “ खेला होबे ” भरपूर मनोरंजक फिल्म…

सुहागिन स्त्री के लिए मंगलसूत्र का महत्व क्यों है ?

विवाहित स्त्रियां अन्य आभूषण पहनें या न पहनें , लेकिन उनके गले में धारण किया मंगलसूत्र सौभाग्यवती रहते कभी अलग नहीं होता , क्योंकि हिंदू धार्मिक मान्यता के अनुसार विवाहित नारी के सुहाग और अस्मिता से जुड़ा मंगलसूत्र एक ऐसी अमूल्य निधि है , जिसका स्थान न तो कोई अन्य आभूषण ले सकता है और…

आर्निका मांटेना (Arnica Montana) होम्योपैथिक दवा के फायदे।

परिचय-चोट लगने के कारण उत्पन्न होने वाले घाव को ठीक करने के लिए आर्निका मांटेना औषधि का उपयोग करना लाभदायक होता है। चोट चाहे पुराना हो या नया या कई वर्षो पुराना यह सभी प्रकार के चोट के रोगों को ठीक कर सकता है।आर्निका मांटेना औषधि रोगी की ऐसी अवस्था को ठीक करता है जिसके…

राम नाम का जप क्यों करते हैं। राम नाम जपने क्या फायदे हैं

र + आ + म = राम मधुर , मनोहर , मनोरंजक , विलक्षण , चमत्कारी जिसकी महिमा तीन लोक से न्यारी है । रामचरितमानस के बालकांड के वंदना प्रसंग में कहा गया है ‘ नहिं कलि करम न भगति बिबेकू राम नाम अवलंबन एकू । ‘ मतलब यह है कि कलियुग में न तो…

कीर्तन में ताली बजाने के लाभ ?

श्रीरामकृष्ण देव कहा करते थे , ‘ ताली बजाकर प्रातः काल और सायं काल हरिनाम भजा करो । ऐसा करने से सब पाप दूर हो जाएंगे । जैसे पेड़ के नीचे खड़े होकर ताली बजाने से पेड़ पर की सब चिड़ियां उड़ जाती हैं , वैसे ही ताली बजाकर हरिनाम लेने से देहरूपी वृक्ष से…

सुबह जगते ही भूमिवंदना क्यों करते हैं ?

प्रातः काल बिस्तर से उतरने के पहले यानी पृथ्वी पर पैर रखने से पूर्व पृथ्वी माता का अभिवादन करना चाहिए , क्योंकि हमारे पूर्वजों ने इसका विधान बनाकर इसे धार्मिक रूप इसलिए दिया , ताकि हम धरती माता के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट कर सकें । वेदों ने पृथ्वी को मां कहकर वंदना की है…

प्रातः जगते ही हथेलियों के दर्शन क्यों करते हैं ?

शास्त्रों में प्रातः काल जगते ही बिस्तर पर सबसे पहले दोनों हाथों की हथेलियों ( करतल ) के दर्शन करने का विधान बताया गया है । दर्शन के दौरान निम्न श्लोक का उच्चारण करना चाहिए – कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती । करमूले तु गोविन्दः प्रभाते करदर्शनम् ॥ अर्थात् हथेलियों के अग्र भाग में भगवती…

रोग क्यों होते हैं ? क्या गौमुत्र से हमारे रोगों का ईलाज हो सकता है।

रोग होने के निम्न कारण हैं । विभिन्न जीवाणुओं के किसी प्रकार से शरीर में विभिन्न अंगों पर आक्रमण करने के कारण । शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति की कमी के कारण । दोषों ( त्रिदोष ) के विषम हो जाने के कारण । आरोग्यदायक तत्त्वों ( जींस ) की किसी प्रकार की कमी के…

क्या आप जानते हैं रावण ने राम जी के अलावा इन 4 लोगों से भी हार का सामना किया है ?

अधिकतर लोगों को यह पता है कि रावण ने राम जी के अलावा किसी से भी नहीं हारा है । परंतु यह एक मिथ्या है । रावण ने राम जी के अलावा चार लोगों से हार का सामना किया है । आइए उनके बारे में जानते हैं । बालि एक बार रावण बालि से युद्ध…

कमजोरी के कारण उत्पन्न रोगों का होमियोपैथिक इलाज।

अंग – संचालन में अक्षमता ( चलने में ) , बंद आँखों के साथ या अंधेरे में चलने में असमर्थता , आँखें बंद करने पर गिर जाना— एलुमिना -30 दिन में दो बार अंग – संचालन में अक्षमता , अनिश्चितता के साथ चलना , रास्ते में कुछ भी आने पर लड़खड़ाना- एगेरिकस मस्केरियस -30 दिन…